झारखंड की 13 विधानसभा सीटों पर अपराह्न 3 बजे तक 62.87% वोटिंग 

by -

शहरी क्षेत्रों के तुलना में ग्रामीण क्षेत्रों में मतदान को लेकर ज्यादा उत्साह दिखा 

रांची :

झारखंड में लातेहार, पलामू, गढ़वा, चतरा, लोहरदगा और गुमला जिलों की 13 विधानसभा सीटों पर पहले चरण के चुनाव के दौरान अपराह्न 3 बजे तक 62.87% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

शहरी क्षेत्रों की तुलना में ग्रामीण क्षेत्रों के मतदान केंद्रों पर मतदाताओं खासकर महिलाओं की भारी भीड़ देखी गयी। मतदान में सभी लोगों का उत्साह बरकरार है। 3 बजे के बाद जो व्यक्ति मतदान केंद्र में कतार में खड़े है सिर्फ वे ही मतदान कर पाएंगे।

सात बजे मतदान प्रारम्भ होते ही शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों के अधिकांश मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की लंबी कतारें देखी गईं। कुछ स्थानों पर मशीनों में खराबी होने के कारण मतदान शुरू करने में देरी हुई। लातेहार विधानसभा सीट के अंबावटीकर और आश्रम स्कूल बूथों पर ईवीएम के तकनीकी खराबी आने के बाद देर से मतदान शुरू हुआ।

विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण के मतदान में दिव्यांग व बुजुर्ग मतदाताओं ने भी बढ़ चढ़कर अपने मतों का इस्तेमाल किया है।

3 बजे तक प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 

27 चतरा -56.59%
68 गुमला-67.30%
69 विशुनपुर-67.04%
72 लोहरदगा-64.16%
73 मनिका-57.61%
74 लातेहार-61.26%
76 डालटनगंज-63.90%
75 पांकी-64.10%
77 विश्रामपुर-61.60%
78 छतरपुर-62.30%
79 हुसैनाबाद-60.90%
80 गढ़वा- 66.04%
81 भवनाथपुर-65.52%

इन 13 सीटों के लिए 3906 मतदान केंद्र बनाए गए थे। इनमें 231 मतदान केंद्र शहर और 3675 मतदान केंद्र ग्रामीण इलाके में स्थित हैं।


प्रथम चरण में चतरा (एससी), गुमला (एसटी), बिशुनपुर (एसटी), लोहरदगा (एसटी), मनिका (एसटी), लातेहार (एससी), पांकी, डाल्टनगंज, विश्रामपुर, छतरपुर (एससी), हुसैनाबाद, गढ़वा और भवनाथपुर सीटों के लिए मतदान हो रहा है।

पहले चरण में कुल 37,78,963 मतदाताओं में 19,79,991 पुरुष और 17,98,966 महिलाएं और पांच तीसरे लिंग के मतदाता शामिल हैं।

इन सीटों पर कुल 189 उम्मीदवार हैं, जिनमें 15 महिलाएं हैं। भवनाथपुर विधानसभा सीट पर 28 उम्मीदवार हैं, जो पहले चरण में किसी सीट पर सबसे ज्यादा हैं।

चुनाव आयोग के एक अधिकारी के अनुसार, पहले चरण के तहत 4,892 बूथ हैं, जिनमें 4,585 ग्रामीण क्षेत्रों और शेष 307 नगरीय क्षेत्र में स्थित हैं।

पहले चरण में 1,262 बूथों पर वेबकास्टिंग सुविधा दी गई है, वहीं सखी बूथों की संख्या 121 और आदर्श मतदान बूथों की संख्या 417 है।

मतदान बूथों को इस बार नक्सली और गैर-नक्सली क्षेत्रों में विभाजित कर दिया गया है। इस आधार पर 1,097 मतदान केंद्रों को अति-संवेदनशील और 461 केंद्रों को संवेदनशील माना गया है।

दुर्लभ और नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में मतदान अधिकारियों को लाने-ले जाने के लिए हेलीकॉप्टर का उपयोग किया गया है।

इस चरण में चुनाव लड़ रहे प्रमुख उम्मीदवारों में झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव और पूर्व मंत्री तथा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार भानू प्रताप शाही शामिल हैं।

पहले चरण में भाजपा 12 सीटों पर चुनाव लड़ रही है और एक सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी को समर्थन दे रही है। झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो), कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) गठबंधन के तहत लड़ रहे हैं और इनमें झामुमो चार, कांग्रेस छह और राजद तीन सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं।

नौ सीटों पर भाजपा और झामुमो, कांग्रेस और राजद गठबंधन के बीच सीधी लड़ाई है।

तीन सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला है। इनमें लोहरदगा सीट पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव, कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और अब भाजपा विधायक सुखदेव भगत और ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन उम्मीदवार नीरू भगत के बीच मुकाबला है।

हुसैनाबाद सीट पर मुकाबला चतुष्कोणीय है। यहां पूर्व मंत्री और राकांपा उम्मीदवार कमलेश ने मतदाताओं को आकर्षित किया है। वह मधु कोड़ा सरकार में मंत्री थे और घोटालों के विभिन्न मामलों में जेल गए थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मतदाताओं से बड़ी संख्या में मतदान की अपील की है।




Related Stories