Advertise Here

कर्फ्यू का खौफ: अहमदाबाद में एक ही दिन में 10 करोड़ रु. का किराना बिका, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां

शहर में रोजाना 15-16 लाख लीटर दूख की खपत होती है, शुक्रवार को 18 लाख लीटर दूध बिका, दूध खरीदने वालों की ऐसी भीड़ थी कि सारे अमूल पार्लर सुबह 11 बजे ही खाली हो गए थे

ऑनलाइन डेस्क :

कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते अहमदाबाद में शुक्रवार रात 9 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं, कर्फ्यू आगे बढ़ने की अफवाह के चलते लोग सुबह से ही खरीदारी करने बाजारों में टूट पड़े। इसके चलते न सिर्फ सब्जियां दोगुने भाव में बिकीं, बल्कि रोजाना की तुलना में एक ही दिन में यहां 2 लाख लीटर दूध ज्यादा बिक गया और एक ही दिन में ढाई गुना ज्यादा किराना बिक गया।

चंद घंटों में 18 लाख लीटर दूध बिक गया

दूध की खरीदी का आलम तो ये था कि सुबह 11 बजे तक अमूल के सारे पार्लर खाली हो चुके थे। शहर में रोजाना 15-16 लाख लीटर दूध की खपत होती है, जबकि शुक्रवार को चंद घंटों में ही करीब 18 लाख लीटर दूध बिक गया। वहीं, सब्जी मार्केट में भी लोगों की भीड़ टूट पड़ी थी। इस कारण सब्जियां दोगुनी कीमतों में बिकीं। गुरुवार तक जहां आलू-टमाटर की कीमतें 30-40 के बीच थीं। उनकी कीमतें हीं 60-70 रुपए क्रॉस कर गई थीं।

10 करोड़ रु. तक का बिक गया किराना

कालूपुर मार्केट के प्रमुख श्यामभाई हरिभाई के अनुसार, दूध-सब्जी के साथ-साथ शुक्रवार को किराना की भी जमकर खरीदारी की गई। आमतौर पर रोजाना 3-4 करोड़ रु. का ही किराना बिकता है, लेकिन शुक्रवार को 7 से 10 करोड़ रु. तक की बिक्री हो गई। यही हाल नमकीन की दुकानों का भी था।

जमालपुर मार्केट बंद कराना पड़ा

मॉल से लेकर मार्केट और सब्जी मंडियों तक में खरीदारी के लिए भारी भीड़ उमड़ पड़ी थी। इससे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा और बढ़ रहा था। लोगों को जल्द से जल्द खरीदारी की इतनी जल्दी थी कि इस दौरान भी कई लोग न तो मास्क लगा रहे थे और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रख रहे थे।

इसी के चलते म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन को वे दुकानें ही सील करनी पड़ीं, जहां भीड़ ज्यादा हो रही थी। इसके अलावा शहर के दूसरे बड़े मार्केट जमालपुर के हालात बेकाबू होते देख पूरा मार्केट ही 11 बजे बंद कराना पड़ा था।

 

अन्य खबरें