नवजात शिशु के लिए किस तरह फायदेमंद है सरसों का तकिया

सरसों के बीज का तकिया बच्चे की सेहत और सुरक्षा के लिए काफी बेहतर (Better for child's health and safety) माना जाता है

ऑनलाइन डेस्क :

नवजात शिशु को जन्म के फ़ौरन बाद से तकिया न लगाना ही उसकी सेहत के लिए अच्छा होता है. लेकिन जन्म के लगभग एक महीने बाद जब आप उसके सिर को तकिया का सहारा देना चाहें, तो सरसों के बीज का तकिया लगाना (Mustard seed pillow) ज्यादा बेहतर होगा.

सरसों का तकिया बच्चे की सेहत और सुरक्षा के लिहाज से काफी सुरक्षित (Better in terms of child's health and safety) माना जाता है. जो बच्चे के लिए कई तरह से फायदेमंद (Beneficial for child) होता है. आइये जानते हैं सरसों का तकिया लगाने के फायदे और इसको बनाने का तरीका क्या है.

सिर और गर्दन को सुरक्षित रखता है

सरसों का तकिया लगाने से बच्चे का सिर और गर्दन सुरक्षित रहते हैं. बच्चे के मूवमेंट करने पर जहां उसकी सिर के पिछले हिस्से की नाजुक त्वचा छिलने से बचती है तो वहीं उसकी गर्दन में भी मोच आने का डर नहीं रहता है.
 

आरामदायक होता है
बाक़ी तकियों की अपेक्षा सरसों का तकिया बच्चे के लिए काफी आरामदायक होता है. इस पर बच्चे को नींद अच्छी आती है. साथ ही ये बच्चे के सिर के मूवमेंट के हिसाब से खुद एडजेस्ट होता रहता है.

सिर का शेप सही रखता है

सरसों का तकिया लगाने से बच्चे के सिर का शेप सही रहता है और शेप बिगड़ने की दिक्कत आगे भी नहीं होती है. इतना ही नहीं जिन बच्चों के सिर का शेप जन्म के दौरान या किसी एक स्थिति में लगातार लेटे रहने की वजह से बिगड़ जाता है. वो भी सरसों का तकिया लगाने से धीरे-धीरे ठीक होने लगता है.

सर्दी-ज़ुकाम से बचाता है

सरसों प्राकर्तिक रूप से काफी गर्म तासीर वाली होती है. इस वजह से सरसों का तकिया लगाने से बच्चों को जल्दी सर्दी-ज़ुकाम नहीं होता है. साथ ही सरसों में प्राकर्तिक तेल होने की वजह से ये सिर की त्वचा को नमी भी देता रहता है.

ऐसे बनायें सरसों का तकिया

तकिया बनाने के लिए लगभग पांच सौ ग्राम पीली सरसों के दाने लें. इनको धोकर तेज़ धूप में सुखा लें जिससे इसमें नमी न रहे. इसके साथ ही लगभग आधा मीटर नर्म और मुलायम कपड़ा लें और इसको गर्म पानी और एंटीसेप्टिक लिक्विड में धोकर अच्छी तरह से सुखा लें, जिससे ये बैक्टीरिया मुक्त हो सके. कपड़े को तीन तरफ से सिलकर इसको थैले की तरह से बना लें. इसके बाद खुले हिस्से से इसमें सरसों के दाने भर दें. ध्यान रहे तकिये को पूरा नहीं भरना है बल्कि कुछ हिस्सा खाली छोड़ना है. सरसों के बीज भरने के बाद खुले हिस्से को भी सिलाई करके बंद कर दें. इसके ऊपर सुंदर से मुलायम कपड़े का कवर लगा दें. सरसों का तकिया तैयार है.

देश की अन्य खबरें