महुआडांड़ सीएचसी में इलाज में लापरवाही -95 वर्षीय बुजुर्ग महिला की मौत

परिजनों ने लगाया इलाज़ नहीं करने का आरोप

महुआडांड़ सीएचसी में इलाज में लापरवाही -95 वर्षीय बुजुर्ग महिला की मौत

शहजाद आलम/महुआडांड़ :

लातेहार ज़िले के महुआडांड़ प्रखंड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में गुरुवार को इलाज के लिए लाई गई लुरगुमी पाकरडीह गांव की निवासी 95 वर्षीय जहिरन बीबी की मौत कथित तौर पर डाक्टरों द्वारा बरती गई लापरवाही के कारण हो गई। 

मृतका को एक अन्य बीमार परिजन के साथ इलाज के लिए सीएचसी पहुंचे नुरुल होदा एवं उसकी बहन मदीना खातून आपातकालीन वार्ड में मरीज को रखकर 2 घंटे तक इलाज के लिए गुहार लगाते रहे। बाद में केंद्र में मौजूद डॉक्टर गणेश राम मरीज को देखने आए।परंतु डॉ गणेश राम के द्वारा सही समय पर इलाज नहीं करने एवं इलाज में लापरवाही बरतने के कारण उसकी मौत देर शाम गुरुवार को अपने घर पर हो गई

इस संबंध में मृतक महिला के पुत्र नुरुल होदा ने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर एवं कर्मियों की लापरवाही से हमारी मां की मौत हो गई है।उसने आरोप लगाते हुए कहा कि हम लोगों को 2 घंटे तक हॉस्पिटल में इलाज के लिए बहुत परेशान होना पड़ा उसके बाद भी सही तरीके से इलाज नहीं हुआ। डॉक्टर ना ही मरीज को अच्छा से देखा, ना ही एडमिट किया, ना ही सही तरीके से दवा दिया ना ही एक बोतल सलाइन तक चढ़ाया। हमारा मरीज वैसे के वैसा ही पड़ा रहा। मैं तो वहां सोच रहा था कि हमारे साथ ही ऐसा सौतेला व्यवहार हो रहा है या और किसी के साथ भी होता है।

यह भी पढ़ें : 

महुआडांड़ सीएचसी में इलाज में लापरवाही, इमरजेंसी में डेढ़ घंटे तक तड़पते रहे मरीज

महुआडांड़ सीएचसी में इलाज में लापरवाही -95 वर्षीय बुजुर्ग महिला की मौत

उसने बताया कि दुनिया में सब को एक दिन जाना है पर मुझे शिकायत है कि हम हॉस्पिटल ले गए थे और सही तरीके से इलाज नहीं होने पर हमें संतुष्टि नहीं हुआ। यहां तक कि डॉक्टर बीपी तक नहीं नापे। उल्टा बोले कि आप यहां राजनीति कर रहे हैं। रिपोर्टर बुलाते हैं। बताइए हमारी मां बहन की जान के लाले पड़े हुए हैं और हम राजनीति करेंगे, रिपोर्टर बुलाएंगे,हॉस्पिटल में कोई राजनीति करने जाता है। हमारे साथ तो यह हादसा हो गया पर आने वाले समय में किसी के मां बहन के साथ ऐसा हादसा ना हो हम यही चाहेंगे।

उसने बताया कि हम बाद में भी डॉक्टर को तलाश कर रहे थे की हमलोग मरीज का क्या करें पर वह नहीं मिले। तब निराश होकर वहां मौजूद नर्स को बोल कर हमलोग मरीज को घर ले आए। नर्सों के द्वारा भी मरीज को घर ले जाने के लिए बोल दिया गया। हर जगह सरकारी हॉस्पिटल को एक्टिव कर दिया गया है पर यहां इतना लापरवाही देखने को मिला, यह हमारे सोच से परे है।

इस संबंध में पूछे जाने पर चिकित्सा प्रभारी डॉ अमित खलखो ने कहा कि वे बाहर हैं। लौट कर आने पर कुछ कह सकेंगे। 

देश की अन्य खबरें