Advertise Here

भटक कर राउरकेला रेलवे स्टेशन पहुंची किशोरी 5 दिनों बाद सकुशल पहुँची महुआडांड़ 

पिछले दो वर्षों से फुआ के घर रह रही किशोरी 15 नवंबर से थी गायब 

भटक कर राउरकेला रेलवे स्टेशन पहुंची किशोरी 5 दिनों बाद सकुशल पहुँची महुआडांड़ 

महुआडांड़ :

महुआडांड से भटक कर राउरकेला रेलवे स्टेशन पहुंची महुआडांड की बच्ची को शनिवार को सकुशल महुआडांड़ वापस लाया गया एवं परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। बच्ची को सुरक्षित वापस लाने के लिए महुआडांड़ इंस्पेक्टर धर्मदेव पासवान और चैनपुर पंचायत के मुखिया राजेश टोप्पो की पहल सराहनीय रही।

शनिवार को सर्कल इंस्पेक्टर धर्म देव पासवान ने परिजनों को महुआडांड़ महिला थाने में बुलाकर बच्ची को सौंप दिया। जिस पर दीपा बुनकर के पिता कामेश्वर बड़ाईक ने इस कार्य के लिए प्रशासन को धन्यवाद दिया। 

बताते चलें कि सोशल मीडिया के माध्यम से 16 नवंबर को देर शाम जानकारी मिली कि महुआडांड थाना क्षेत्र स्थित ग्राम अहिरपुरवा, पंचायत चैनपूर की रहने वाली नाबालिक बच्ची दीपा बुनकर (16) पिता कामेश्वर बड़ाईक किसी तरह से भटकते भटकते राउरकेला रेलवे स्टेशन पहुंच गई है। वहा आरपीएफ के जवानों ने भटकती बच्ची को देख कर प्रारंभिक पुछताछ की तो पता चला कि वो बच्ची महुआडांड की रहने वाली है। जिसपर आरपीएफ के जवानों ने बच्ची को अपने संरक्षण में लेकर राउरकेला रेलवे चाइल्ड लाइन को सुरक्षित सौंप दिया था साथ ही सोसल मीडिया के माध्यम से बच्ची के परिवार वालो को ढूंढने की गुहार लगायी थी।

भटक कर राउरकेला रेलवे स्टेशन पहुंची किशोरी 5 दिनों बाद सकुशल पहुँची महुआडांड़ 

दो वर्षो से फुआ के घर पर रहती थी और 15 नवंबर से घर से गायब थी 

महुआडांड़ के ग्राम अहिरपुरवा की रहने वाली दीपा बुनकर पिछले दो वर्षो से अपनी फूआ मुन्नी देवी के पास परहाटोली पंचायत के विश्रामपुर गांव में रहतीं थी । उसने 2019 में महुआडांड़ स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में पढ़ाई से मैट्रिक की परीक्षा पास की थी। दीपा बुनकर अपनी बुआ के घर से 15 नवंबर से ही गायब थी। 

अन्य खबरें