स्वास्थ्य कर्मियों को 1 साल की नहीं मिली मजदूरी, स्वास्थ्य कर्मी भुखमरी के कगार पर

चिकित्सा पदाधिकारी समेत जिला चिकित्सा पदाधिकारी को पत्राचार कर बकाया मजदूरी भुगतान की मांग

स्वास्थ्य कर्मियों को 1 साल की नहीं मिली मजदूरी, स्वास्थ्य कर्मी भुखमरी के कगार पर

रवि कुमार गुप्ता/बरवाडीह:

एक और जहां पूरा देश करोना से भयभीत था वही अपनी जान जोखिम डाल कर स्वास्थ्य विभाग में अस्थाई तौर पर सेवा देने वाले करीब 1 दर्जन से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को काम करने के 1 वर्षों बाद भी उनकी बकाया मजदूरी अब तक नहीं मिली है।

बकाया मजदूरी भुगतान को लेकर काम करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों समेत जिले के अधिकारियों से कई बार गुहार लगा चुके हैं।लेकिन अब तक उनकी बकाया मजदूरी का भुगतान नहीं हुआ है। ऐसे में काम करने वाले दैनिक स्वास्थ्य कर्मियों की स्थिति भुखमरी जैसी कायम हो गई है।


इस संबंध में काम करने वाले कोरोना काल में काम करने वाले दैनिक स्वास्थ्य कर्मी सागर कुमार ,रंजीत कुमार, हंस पाल कुमार ,राजा बाबू, बम भोला प्रसाद,दिलीप कुमार, संजय कुमार चंद्रवंशी, शिवनाथ सिंह, तनु कुमारी, चंदन कुमार आदि ने बताया कि हम सभी लोग कोरोना काल में अपनी जान जोखिम में डाल कर बरवाडीह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 04 02 .2021 से 15.04 .2022 तक 1 वर्ष 2 माह तक लगातार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोराना काल में अपनी विभिन्न सेवाए दिए एकाएक संक्रमण का प्रसार कम होने के कारण हम सभी को सेवा से मुक्त कर दिया गया।

 

लेकिन सेवा काल मे किए गए काम का मजदूरी भुगतान अब तक नहीं हुआ है।सागर कुमार ने कहा कि हम लोगों ने अपनी बकाया मजदूरी की मांग को लेकर बरवाडीह तत्कालीन चिकित्सा पदाधिकारी समेत जिला चिकित्सा पदाधिकारी को पत्राचार कर बकाया मजदूरी भुगतान की मांग किया।

लेकिन 4 माह गुजर जाने के बाद भी अब तक हम सभी अस्थाई सेवा कर्मियों का मजदूरी भुगतान नहीं हुआ है जिससे हम लोगों को काफी आर्थिक संकट से गुजरना पड़ा रहा है।सभी स्वास्थ्य कर्मियों ने एक बार पुनः लातेहार उपायुक्त का ध्यान इस और दिलाते हुए बकाया मजदूरी भुगतान की मांग किया है।

देश की अन्य खबरें