नवजात शिशु रोजाना 3 घंटे से ज्यादा रोए तो हो जाएं सावधान

स्तनपान कराने वाली महिलाएं अगर अपने खान-पान में बदलाव करें तो इसका काफी असर होता है।

ऑनलाइन डेस्क :

नवजात शिशु का रोना आम बात है। बल्कि सभी बेबीज़ रोते हैं। बेबीज़ में रोने की प्रक्रिया को इस नज़र से भी देखा जाता है कि यह एक माध्यम होता है जिसके ज़रिए वे अपनी ज़रूरतों को कम्यूनिकेट कर पाते हैं।

लेकिन शिशु रोजाना या हफ्ते में तीन दिन 3 घंटे या फिर इससे ज्यादा वक्त तक रोए तो हो सकता है कि आपके बच्चे को कॉलिक (Colic) नाम की बीमारी हो सकती है।

क्या होता है Colic

कॉलिक एक ऐसी स्थिति होती है जिसमें शिशु रोजाना 3 घंटे या फिर इससे ज्यादा वक्त तक रोता रहता है। यह स्थिति हफ्ते में तीन दिन भी हो सकती है। यह या तो शिशु के पेट में दर्द होने की वजह से होता है या फिर एलर्जी की वजह से भी हो सकता है। हालांकि इसकी असल वजह अभी भी पता नहीं है।



Colic का इलाज

कॉलिक की समस्या 10 से 40 पर्सेंट बच्चों को प्रभावित करती है। यह समस्या डेढ़ महीने के बच्चे से शुरू होकर 6 महीने की उम्र तक भी रहती है। खास बात यह है कि यह समस्या लड़कों और लड़कियों में एक ही उम्र पर होती है। कॉलिक की समस्या से निपटने के लिए फिलहाल किसी तरह की दवाई उपलब्ध नहीं है, लेकिन माना जाता है कि शिशुओं को स्तनपान कराने वाली महिलाएं अगर अपने खान-पान में बदलाव करें तो इसका काफी असर होता है।

देश की अन्य खबरें