बासी मुंह पीते हैं दूध वाली चाय तो हो सकती है जानलेवा, पेट में बनाती है जहर

स्केलेटल फ्लोरोसिस बीमारी होने के बाद व्यक्ति को आर्थराइटिस जैसा दर्द होने लगता है

ऑनलाइन डेस्क :

बहुत सारे लोगों को सुबह उठकर बासी मुंह चाय पीना अच्छा लगता है. यदि आप भी सुबह-सुबह उठकर दूध वाली चाय पीते हैं तो आपको तुरंत सावधान रहने की जरूरत है. भारत के लोगों में आदत होती है कि दिन की शुरुआत आमतौर पर चाय से करते हैं. कुछ ऐसे चाय के आदी लोग हैं जब तक वो सुबह-सुबह बासी मुंह चाय नहीं पीते उनकी दिन की शुरूआत अधूरी रहती है.

हमारे देश में चाय पीने और पिलाने की हमेशा से परंपरा रही है. यदि कोई मेहमान हमारे घर आता है तो सबसे पहले हम उन्हें चाय ऑफर करते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि बासी मुंह दूध की चाय पीना आपके लिए हानिकारक हो सकता है. भारत में दूध और चीनी डालकर चाय पीने का चलन आम है लेकिन ये चाय सबसे ज्यादा नुकसानदायक होती है.

विकसित देशों में दूध डालकर नहीं पीते हैं लोग

इंग्लैंड और अमेरिका जैसे विकसित देशों में ज्यादातर लोग चाय में दूध डालकर नहीं पीते हैं. उन देशों में लोग चीनी भी कम मात्रा में उपयोग करते हैं. हालांकि भारत में ढेर सारा दूध डालकर चाय पीने का ज्यादा चलन है. भारत में लोग चाय में चीनी भी ज्यादा डालते हैं, क्योंकि यहां के लोगों को मीठी चाय पीना काफी पसंद होता है.

इस तरह यदि सुबह उठकर आपकी चाय पीने की आदत तलब में बदल चुकी है, तो इससे कई गंभीर बीमारी हो सकती है. सुबह उठकर खाली पेट चाय पीने से और लंबे समय तक चाय पीने से आपको स्केलेटल फ्लोरोसिस जैसी घातक बीमारी हो सकती है. स्केलेटल फ्लोरोसिस बीमारी हड्डियों को अंदर ही अंदर खोखला कर देती है. इससे आपकी जान की भी आफत बन सकती है.

स्केलेटल फ्लोरोसिस बीमारी के शिकार होने का खतरा 

स्केलेटल फ्लोरोसिस बीमारी होने के बाद व्यक्ति को आर्थराइटिस जैसा दर्द होने लगता है. जिससे कमर दर्द, जोड़ों में दर्द के अलावा हाथ-पैर के दर्द की शिकायत होती है. चाय में फ्लोराइड मिनरल पाया जाता है, यह हड्डियों के लिए बहुत खतरनाक होता है. फ्लोराइड की अधिक मात्रा शरीर में जाने से हड्डियों में स्केलेटल फ्लोरोसिस की संभावना बढ़ जाती है. हड्डियों को कैल्शियम ग्रहण करने से भी चाय रोकता है. इसके अलावा ज्यादा मात्रा में चाय पीने से अल्सर और हाइपर एसिडिटी का कारण होता है.

देश की अन्य खबरें