41 साल बाद हॉकी में पदक, भारत ने जर्मनी को 5-4 से पछाड़कर कांस्य पदक जीता

महिला हॉकी में भी पदक जीतने की संभावना प्रबल 

41 साल बाद हॉकी में पदक, भारत ने जर्मनी को 5-4 से पछाड़कर कांस्य पदक जीता

ऑनलाइन डेस्क :

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीम ने कांस्य पदक जीतकर 41 वर्षों बाद ओलिंपिक हॉकी में पदक पर कब्ज़ा जमाया। कांस्य पदक के लिए खेले गए मैच में भारत ने जर्मनी को 5-4 से पछाड़कर जीत दर्ज की। 

कभी हॉकी में बादशाहत रखने वाले भारत के लिये यह बड़ी उपलब्धि है। भारत ने इसके पूर्व 1980 के मास्को ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीता था। 

अभी भारत के लिए महिला हॉकी में भी कांस्य जीतने की सम्भावना बरक़रार है।

इससे पहले भारत व जर्मनी दोनों को सेमीफाइनल मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा था। 

इस मुकाबले में इस मुकाबले में जर्मनी की तरफ से पहले क्वार्टर में ओरुज टिमूर ने गोल किया और 1-0 की बढ़त भारत के खिलाफ बनाई, लेकिन दूसरे क्वार्टर में भारत ने बराबरी कर ली। भारत के लिए दूसरे क्वार्टर में सिमरनजीत सिंह ने गोल किया। 

भारत के बाद दूसरे क्वार्टर में जर्मनी ने भी एक के बाद एक दो गोल किए और टीम 3-1 से आगे निकल गई। हालांकि, भारत के हार्दिक सिंह के बाद हरमनप्रीत सिंह ने पेनाल्टी कार्नर से दो गोल किए और इस तरह हाफ टाइम में भारत ने जर्मनी की बराबरी कर ली। 

इसके बाद तीसरे क्वार्टर में भारत ने दमदार शुरुआत की. शुरुआत में ही भारत ने एक के बाद एक दो गोल किए। भारत के लिए इस क्वार्टर में सिमरनजीत सिंह के बाद रुपिंदर पाल सिंह ने गोल किया और बढ़त को 5-3 में बदला। हालाँकि जर्मनी में जोरदार हमला करते हुए स्कोर 5-4 कर दिया। मैच के आखिरी पलों में जर्मनी को पेनाल्टी कार्नर मिला हालाँकि भारतीय गोली श्रीजेश ने शानदार बचाव कर भारत की जीत सुनिश्चित कर दी।

देश की अन्य खबरें