Advertise Here

माओवादी हथियार छोड़ मुख्यधारा में लौटें अन्यथा होगा सफाया - डीजीपी 

कोयला कारोबारी की हत्या के बाद चतरा पहुंचे डीजीपी ने दी चेतावनी 

माओवादी हथियार छोड़ मुख्यधारा में लौटें अन्यथा होगा सफाया - डीजीपी 

चतरा:

झारखंड के डीजीपी ने उग्रवादियों को चेतावनी देते हुए शनिवार को चतरा में कहा कि वे हथियार छोड़कर मुख्यधारा में लौट जाएं अन्यथा कुचले जाएंगे। शनिवार को चतरा के पत्थलगडा में एक कोयला कारोबारी की नक्सलियों द्वारा हत्या कर दिए जाने के बाद डीजीपी चतरा पहुंचे थे। यहां उन्होंने डीआईजी व पुलिस अधीक्षक ऋषव कुमार झा से घटना की सारी जानकारी ली और उग्रवादियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

राव ने कहा कि किसी की हत्या जघन्य अपराध है। उग्रवादी किसी का हमसफर नहीं हो सकते हैं। जंगलों में चोरी छुपे किसी की हत्या कर देना, सुदूरवर्ती इलाके में विकास के कार्य में लगे मशीनों और वाहनों को जला देना बहादुरी नहीं है। उन्होंने कहा कि उग्रवादियों के खिलाफ झारखंड पुलिस हमेशा सख्त रही है। उग्रवादियों की धरपकड़ को लेकर विशेष रणनीति पर काम की जा रही है। जल्द ही उग्रवादियों पर बड़ी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ेंचतरा में छठ घाट पर माओवादी हमला, कोयला कारोबारी की गोली मारकर हत्या 

माओवादी हथियार छोड़ मुख्यधारा में लौटें अन्यथा होगा सफाया - डीजीपी 

बताते चलें शनिवार की अहले सुबह चतरा के पत्थलगडा व सिमरिया के सीमांत पर स्थित तपसा के सिनपुर छठ घाट पर कोयला कारोबारी मुकेश गिरी को उग्रवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। माओवादियों ने घटनास्थल पर पर्चा छोड़ कर घटना की जिम्मेदारी ली है।

डीजीपी ने बताया कि हत्याकांड से जुड़े हर पहलू पर जांच की जा रही है। उग्रवादियों की धरपकड़ के लिए सीमांत के जंगलों में पुलिस छापामारी अभियान चला रही है।

डीजीपी ने कहा कि मृतक का पूर्व में उग्रवादी संगठन से था संपर्क 

डीजीपी ने कहा कि उग्रवादी घटना में मारा गया कोयला कारोबारी पूर्व में नक्सली संगठन से जुड़ा था और जेल भी गया था। बहरहाल वह जेल से छूट कर गांव में रह कर कोयला का कारोबार करता था।

अन्य खबरें