पलामू : सतबरवा मलय डैम से निकाली गई 30 किलोग्राम की मछली

मशहूर मलय डैम नीली क्रांति के जरिए मछली पालन का बड़ा केंद्र है

पलामू : सतबरवा मलय डैम से निकाली गई 30 किलोग्राम की मछली

सुनील नूतन/सतबरवा :

पलामू जिले के सतबरवा स्थित मलय डैम से शनिवार को करीब 30 किलो ग्राम की एक बड़ी  मछली पकड़ी गई है। 

बड़ी मछली डैम में लगाए गए फांसा जाल में फंसी थी। बड़ी मछली को देखने के लिए कई लोग इकट्ठे हो गए ।


मुरमा मलय डैम मत्सय जीवी के सचिव अरुण सिंह ने बताया कि मछली को 26 सौ रुपए में बेचा गया।

मध्यम सिंचाई योजना के रूप में मशहूर मलय डैम अब नीली क्रांति के जरिए मछली पालन का बड़ा केंद्र बनता जा रहा है। मुरमा मलय मत्स्य जीवी सहयोग समिति लिमिटेड के नाम से एक निबंधित संस्था मत्स्य पालक (श्रमिकों) के लिए संगठन बनाया गया है जिसमें करीब आधा दर्जन भर से गांव के 75 मत्स्यजीवी सदस्य रखे गए हैं। इन सभी को रोजी रोजगार से जोड़ा गया है।

 

मलय डैम में मछली पालन के लिए केज कल्चर लगा है। केज कल्चर मैं कई सौ किलोग्राम मछली का जीरा डाला जाता है। मछली बड़ा होने पर उसे बाजारों में बेचकर आर्थिक रूप से लोग मजबूत हो रहे हैं।

मौके पर सभी के साथ संदीप कुमार उर्फ बबन,संजय प्रसाद ,राजेंद्र सिंह ,शर्मा जी, राजेंद्र राम समेत कई लोग मौजूद थे।

देश की अन्य खबरें