महुआडांड़ सीएचसी में इलाज में लापरवाही, इमरजेंसी में डेढ़ घंटे तक तड़पते रहे मरीज 

केंद्र में डॉक्टर थे मौजूद पर कार्यालय से बाहर निकल कर देखने की जहमत नहीं उठाई 

महुआडांड़ सीएचसी में इलाज में लापरवाही, इमरजेंसी में डेढ़ घंटे तक तड़पते रहे मरीज 

शहजाद आलम/महुआडांड़ :

लातेहार ज़िले के महुआडांड़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज को लेकर गुरुवार को बड़ी लापरवाही देखने को मिली। स्वास्थ्य केंद्र के इमरजेंसी में दो मरीज तड़पते रहे, एक तो बार बार बेहोश होता रहा, परन्तु अपने कक्ष में मौजूद डॉक्टर मरीज को देखने बाहर तक नहीं निकले। 

वहीँ सीएचसी के प्रभारी ने बताया कि केंद्र में डाक्टरों की कमी है। हालाँकि मौजूदा कर्मियों को और मन लगाकर काम करने की जरूरत है। 

मामला सुबह 9:45 से 11:15 बजे की है। लुरगुमी पाकरडीह की रहने वाले मदीना खातुन दो मरीजों को लेकर महुआडांड़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आई परंतु उनका समय पर नहीं किया गया। ना तो कोई सीनियर डाक्टर आया और ना ही कोई जुनियर डाक्टर मरीज का इलाज करने आया। डेढ़ घंटे से सभी केवल तमाशा देख रहे थे। थक हार कर मदीना ने हंगामा शुरू कर दिया।

मदीना खातुन ने बताया कि मैं डेढ़ घंटे से दो गंभीर मरीजों को लेकर आई हुं और इमरजेंसी वार्ड में रखी हुं पर डेढ़ घंटे से बोलने के बावजूद कोई देखने नहीं आया। महिला ने जानना चाहा कि मरीजों को कुछ हो जाने पर जिम्मेवारी कौन लेता। 

मरीजों में एक 22 वर्ष की महिला और 95 वर्ष की बुढ़ी मां शामिल थीं। एक को सांस लेने में परेशानी होर रही थी तो वृद्ध महिला तो बार बार बेहोश ही हो जा रही थी। 

महुआडांड़ सीएचसी में इलाज में लापरवाही, इमरजेंसी में डेढ़ घंटे तक तड़पते रहे मरीज 

महिला ने बताया कि 11:15 तक ना तो ओपीडी खोला गया है ना ही एमरजेंसी में कोई डाक्टर आ रहा है। मौके पर अपने कमरे में मौजूद डाक्टर गणेश राम भी मरीज को देखने नहीं आये। 

वहीं नूरुल होदा ने बताया कि यहां के कर्मचारियों ने कहा कि इलाज करवाने आए हो, इलाज करवाओ। ज्यादा हंगामा करोगे तो मरीज को रेफर कर दिया जाएगा। 

वहीं इस संबंध में पूछे जाने पर चिकित्सा प्रभारी डॉ अमित खलखो ने बताया कि हम फाइलेरिया को लेकर बैठक के लिए एसडीओ कार्यालय में है। डाॅ गणेश राम केंद्र में मौजूद हैं। परंतु सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सभी लोग मनमानी तरीके से काम करते हैं। समय पर कोई भी अपना काम नहीं करता है। मैं कार्य के प्रति कितनी बार बोल चुका हूं। उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र में डाक्टर की कमी है।

देश की अन्य खबरें