मूली खाना पड़ सकता है भारी

मूली ज्यादा खाने की वजह से थॉयराइड ग्लैंड का वजन बढ़ जाता है

ऑनलाइन डेस्क :

मूली के बिना सलाद खाना अधूरा लगता है. खासकर सर्दियों के दिनों में मूली कुछ ज्यादा ही खाई जाती है. कभी सलाद, कभी अचार, कभी पराठे तो कभी सब्जी में डालकर मूली खाते हैं.

मूली में कई औषधीय गुण छिपे होते हैं, जो सेहत को फायदा पहुंचाते हैं. मूली हार्ट और लीवर के लिए फायदेमंद है, लेकिन ज्यादा मूली खाना भी शरीर के लिए परेशानी बन सकता है. मूली की ओवर ईटिंग कई बीमारियों की वजह बन सकती है.


हाइपोथायरायडिज्म का खतरा

मूली के सेवन से थायरोट्रोपिन का लेवल बढ़ जाता है, जिससे हाइपोथायरायडिज्म का खतरा बढ़ता है. ज्यादा मूली खाने से आयोडीन की फंक्शनिंग भी प्रभावित होती है. मूली ज्यादा खाने की वजह से थॉयराइड ग्लैंड का वजन बढ़ जाता है, जो थायरॉइड की वजह बनता है. थायरॉइड के मरीजों को मूली खाने से बचना चाहिए. 

हाइपोग्लाइसीमिया 

मूली का सेवन करने से ब्लड में शुगर का लेवल बहुत कम हो सकता है. अगर शुगर ज्यादा कम हो जाए तो इस स्थिति को हाइपोग्लाइसीमिया कहते हैं. ये डायबिटीज की खतरनाक स्थिति होती है.

बॉडी डिहाईड्रेट करे

मूली से शरीर में डिहाईड्रेशन हो सकता है. मूली खाने से यूरिनेशन बढ़ जाता है, जिससे शरीर में पानी की कमी हो जाती है. मूली खाने से बॉडी डिहाईड्रेट हो जाती है. डिहाईड्रेशन बॉडी के लिए अच्छा नहीं है. मूली के सेवन से शरीर में सोडियम की कमी भी आ सकती है. जिसकी वजह से किडनी को नुकसान पहुंच सकता है.

ब्लड प्रेशर की परेशानी

मूली में मौजूद पोषक तत्व ब्लड प्रेशर को लो करने का काम करते हैं. अगर आपका ब्लड प्रेशर पहले से ही लो है तो आपको मूली का सेवन ज्यादा करने से बचना चाहिए. मूली खाने से ब्लड प्रेशर बहुत कम हो सकता है जो हार्ट के लिए अच्छा नहीं है. मूली की ओवरईटिंग से एंग्जाइटी, चक्कर और घबराहट जैसी परेशानियां हो सकती हैं.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य जानकारियों पर आधारित है. Info Way 24 इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

देश की अन्य खबरें