मंदिर में करते हैं जाप तो रखें इन बातों का ध्यान

मंत्रों के जाप करते वक्त जब माला फेरें तो ध्यान रखें कि दाहिने हाथ की उंगलियों पर अंगूठे के पोर से ही फेरा जाए

ऑनलाइन डेस्क :

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ का महत्व अत्याधिक है. साथ ही लोग पूजा के दौरान मंत्रों का जाप भी करते हैं. घर पर जब मंत्र जाप किया जाता है तो भी पूरे नियमों के साथ किया जाना चाहिए.

मंदिर में भगवान के दर्शन करते वक्त उनके समक्ष शीष झुकाएं और उनका अभिवादन करें. फिर मंत्रों का जाप करें.

मंदिर में जाप करते वक्त किन बातों का ध्यान रखना चाहिए चलिए आपको बताते हैं.

जब भी मंत्र का जाप करने नीचे बैठें तो शुद्ध ऊनी आसन बिछाकर ही बैठें.

मंत्रों का जाप करते वक्त कमर सीधी रहनी चाहिए. साथ ही पद्मासन या सुखासन लगाकर बैठें और चेहरे को सीधा रखें.

मंत्रों के जाप करते वक्त जब माला फेरें तो ध्यान रखें कि दाहिने हाथ की उंगलियों पर अंगूठे के पोर से ही फेरा जाए. इस पर नाखून स्पर्श हो.

माला को इस तरह पकड़े कि वो न तो नाभि जाए और न ही नाक के ऊपर जाए. सीने से माला 4 अंगुल दूर सामने रखें.

जाप करते वक्त यह ध्यान रखें की मामला को नीचे न गिराएं. माला को जप खत्म होने के बाद डिब्बी में रखें.

माला फेरते वक्त आपका मन एकाग्र होना आवश्यक है. माला फेरते समय इधर-तांकझांक न करें.

देश की अन्य खबरें