गणेशपुर बरवाडीह के पारा शिक्षक की मौत, पारा शिक्षकों में रोष 

संघ के नेताओं ने सरकार से 18 वर्षों से सेवाएं दे रहे पारा शिक्षकों के लिए तत्काल राहत की मांग की है 

गणेशपुर बरवाडीह के पारा शिक्षक की मौत, पारा शिक्षकों में रोष 

लातेहार :

लातेहार ज़िले में पिछले एक सप्ताह में तीन पारा शिक्षकों के असमय मौत हो गई। इसे लेकर ज़िले के पारा शिक्षकों में काफी रोष है। 

गुरुवार को गणेशपुर बरवाडीह लातेहार के 45 वर्ष के पारा शिक्षक बीरेन्द्र कुमार यादव जिंदगी की जंग हार गए। इसके पूर्व उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय अंबाटिकार कुमंडीह के पारा शिक्षक शत्रुधन मिस्त्री (45) का निधन 1 मई को और चंदवा प्रखंड के रक्सी मध्य विद्यालय के पारा शिक्षक गोपाल टोपनो (45) ने 3 मई को दम तोडा था। 

संघ के जिला अध्यक्ष अतुल कुमार एवं महासचिव अनूप कुमार ने बताया कि एक सप्ताह के अंदर ये तीसरे पारा शिक्षक है जिनकी अकाल मौत हो गयी है ।इसके पूर्व मनिका और चंदवा के पारा शिक्षक की मौत हो चुकी है

उन्होंने कहा कि मृतक अपने परिवार का इकलौता कमाने वाले सदस्य थे और परिजनों का देखभाल करने वाला भी कोई नही है। उन्होंने कहा कि बहुत बड़ी बड़ी बाते करने वाले माननीय आज तक हमारे साथ न्याय नही कर पाए हैं। जबकि उनका वादा था कि तीन माह में सभी को वेतनमान का तोहफा दिया जायेगा। हम सभी मांग करते है कि यथा शीध्र हमारे लिए नियमावली लाकर सभी को वेतनमान देने का एलान एवं लागू करे ताकि लगभग 18 वर्षो से ज्यादा समय से अल्प मानदेय पर कार्य कर रहे पारा शिक्षकों के साथ न्याय हो सके।

शोक व्यक्त करने वालो में प्रदेशाध्यक्ष ऋषिकेश पाठक, प्रमोद पांडेय, बेलाल अहमद, अभिनय मिश्र, अरविंद कुमार, प्रवीण सिंह, मनोज मिंज, संजय सिंह, जयप्रकाश कुमार, रुद्र प्रताप सिंह, मनोज सहाय, लाल आशीषनाथ शाहदेव, शेखर यादव, भूपेंद्र कुमार, विजय प्रसाद, बलराम सिंह, विजय यादव, गुलाम अनवर, हरि यादव, प्रदीप कुमार, गोविंदा कुमार, पवन यादव, समोधी यादव, अशोक गुप्ता, सुनील सिंह, विनोद मिश्रा, मिथलेश यादव, उमेश साहू, भुनेश्वर पांडेय, सुभाष गुप्ता, महेंद्र मिंज, दिलीप प्रसाद, दिनेश ठाकुर, सतेंद्र यादव, प्रमोद यादव, महाभारत भगत और भुनेश्वर सिंह समेत अन्य शिक्षको शामिल हैं। 

देश की अन्य खबरें