पीरियड के दौरान Menstrual Cup का करें इस्तेमाल,चलता है सालों-साल

Menstrual Cup में किसी तरह के कॉटन का इस्तेमाल नहीं होता है. इस वजह से इस ईको-फ्रेंडली Menstrual Cup को dispose off करना भी काफी आसान है.

ऑनलाइन डेस्क :

आज भी भारत में सिर्फ 11.4 फीसदी महिलाएं ही पीरियड्स के दौरान सुरक्षित पैड्स का इस्तेमाल करती हैं. इसकी बहुत सारी वजहे हैं. सबसे पहली वजह है गरीबी और दूसरी है अशिक्षा. लेकिन जो तीसरी सबसे बड़ी वजह है वह है पीरियड्स के प्रति शर्म की भावना होना.

इसके अलावा चौथी वजह ग्रामीण क्षेत्रों में सेनेटरी पैड्स की आसान उपलब्धता न होना भी एक बड़ी वजह है. आज हम आपको Menstrual Cup के बारे में बताने जा रहे हैं. जो इस्तेमाल में ज्यादा सुरक्षित होने के साथ पैड्स के मुकाबले बेहद सस्ता है. ऑफिस जाने वाली महिलाओं को रख-रखाव जैसी समस्याओं से यह निजात भी दिलवाता है.

बार-बार आता है इस्तेमाल में

Menstrual Cup एक बार में खराब नहीं होता, यह बार-बार इस्तेमाल मेें आता है. यह अपने लिए पर्स में अतिरिक्त जगह भी नहीं मांगता. आपके vagina में यह रक्त स्राव के विरूद्ध ऐसे फिट होता है कि आपके बाहरी कपड़ों या अन्तः वस्त्र पर दाग जैसी कोई सम्भावना नहीं रहती. इसके अलावा सैनेटरी पैड्स की तरह इसमें किसी तरह के केमिकल का भी इस्तेमाल नहीं होता.

Menstrual Cup में किसी तरह के कॉटन का इस्तेमाल नहीं होता है. इस वजह से इस ईको-फ्रेंडली Menstrual Cup को dispose off करना भी काफी आसान है. इससे किसी तरह के संक्रमण का कोई खतरा नहीं होता. एक reusable Menstrual Cup को कम से कम 1 साल तक इस्तेमाल किया जा सकता है.

यह छोटा सा Menstrual Cup देखने में घंटी की तरह लगता है. यह silicone या latex rubber का बना होता है. vagina से निकलने वाले रक्त स्राव को यह tampon या pad की तरह सोखता नहीं है बल्कि उसे इकट्ठा करता है. फिर आपको जब फुर्सत हो तो आप उसे वाश बेसिन में बहा सकती हैं. यह बड़ी आसानी से 12-15 घंटे तक के period's blood flow को स्टोर कर सकता है.

देश की अन्य खबरें