तमिलनाडु में मृत लेदवासेमर के श्रमिक का शव घर पहुंचते ही मचा कोहराम

सरकार की पहल पर प्रवासी मजदूर का शव झारखण्ड लाया गया 

तमिलनाडु में मृत लेदवासेमर के श्रमिक का शव घर पहुंचते ही मचा कोहराम

सुनील नूतन/सतबरवा :

पलामू जिले के सतबरवा प्रखंड के कसियाडीह गांव के लेदवासेमर टोला के प्रवासी श्रमिक सूरजमल उरांव ( 21) का शव तमिलनाडु के कोयंबटूर से पहुंचते ही गांव में कोहराम मच गया। परिजनों का रो-रोकर हाल बेहाल है।

विदित हो कि 19 जुलाई को तमिलनाडु जाने के क्रम में कोयंबटूर स्टेशन के पास ट्रेन से फिसलकर पहिया के चपेट में आने से मौत हो गई थी। झारखंड सरकार की पहल पर मृतक मजदूर का शव सतबरवा के कसियाडीह लेदवासेमर एंबुलेंस से लाया गया।

बताया गया कि मृतक सूरजमल अच्छी जिंदगी और रहन-सहन ऊंचा रखने के ख्वाब सजाकर बाहर कमाने गया था। लेकिन नियति को यह सब रास नहीं आई और उसका शव गांव पहुंचा। 

मृतक के पिता सोमर ने बताया कि काम की तलाश में पहले केरल गया उसके बाद ढंग का काम नहीं मिला तब वह तमिलनाडु जा रहा था। घर का बहुत ही प्यारा और नेक लड़का था। उसकी शादी नहीं हुई थी। घर में मां पिता के अलावे चार भाई और दो बहन है।पैसा कमाने के बाद सूरज ने शादी करने को कहा था।

भाजपा अजजा प्रकोष्ठ के प्रदेश मंत्री अवधेश सिंह चेरो ने झारखंड के मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि मृत मजदूर को श्रम विभाग से सहायता राशि दिलाएं ताकि उनके परिजनों का गुजर बसर ठीक ढंग से हो सके।

दाह संस्कार के दौरान बकोरिया पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि केवल उरांव, शिक्षक गोविंद प्रसाद, सामाजिक कार्यकर्ता भोलाराम, भाजपा अजजा प्रकोष्ठ के प्रदेशमंत्री अवधेश सिंह चेरो, प्रमोद यादव, ब्रह्मदेव सिंह , कन्हाई प्रसाद समेत कई लोग उपस्थित थे। 

देश की अन्य खबरें