कोविड का टीका लगाने एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार व एएनएम सुशीला नगेसिया 5 किमी पैदल चलकर पहुचें गांव

गांव में पहुंचकर आदिम जनजाति के विकलांग वृद्ध को लगाया टीका और 30 मिनट तक रूककर वृद्ध के स्वास्थ्य का ध्यान भी रखा

कोविड का टीका लगाने एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार व एएनएम सुशीला नगेसिया 5 किमी पैदल चलकर पहुचें गांव

पारस यादव/गारू:

स्वास्थ्य कर्मी एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार व एएनएम सुशीला नगेसिया ने पांच किलोमीटर पैदल चलकर लातेहार जिले के गारू प्रखंड के बारेसाढ़ सीएससी के डेढ़गांव में विलुप्त हो रही कोरबा आदिम जनजाति के प्रयाग कोरबा को घर जाकर कोविड-19 का टीका लगाया। 

प्रयाग कोरबा अपने पैरों से लाचार व विकलांग होने की जानकारी मिलते ही एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार व एएनएम सुशीला नगेसिया पांच किलोमीटर पैदल चलकर प्रयाग कोरबा के घर पहुंच गए और कोविड-19 वैक्सीनेशन करने के बाद 30 मिनट तक उनका घर में बैठकर उनका स्वास्थ्य का ख्याल भी रखा।

कोविड का टीका लगाने एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार व एएनएम सुशीला नगेसिया 5 किमी पैदल चलकर पहुचें गांव

प्रयाग कोरबा ने पूरी स्वास्थ्य टीम को तहे दिल से धन्यवाद दिया।

बताते चले कि इससे पहले भी एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार व एएनएम सुशीला नगेसिया ने नक्सल प्रभावित हेनार गांव जाकर कैंसर पीड़ित सस्तु ब्रिजिया को कोविड-19 का टीका लगाया था।

एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के लोग सुदूरवर्ती गांव में हर घर में पहुंच कर लोगों को जागरूक कर रहे हैं। इसके साथ ही कोरोना महामारी से बचने का उपाय भी बता रहे हैं।

विदित हो कि संतोष कुमार एमपीडब्ल्यू की पत्नी और बेटी खुद कोरोना पॉजिटिव हो गए है, लेकिन वे खुद कोरोना योद्धा बनकर टीकाकरण करने और लोगों को कोरोना से बचाव के बारे में जागरूक करने में लगे हुए हैं।

संतोष कुमार ने बताया कि वे अपने पत्नी और बेटी से मिलने तक नहीं जा पा रहे हैं। फोन में ही हाल-चाल लेकर समुचित ईलाज को लेकर सलाह दे रहे है। उन्होंने कहा कि कोरोना बीमारी से डरने की जरूरत नहीं है बल्कि कोरोना बीमारी से लड़ने की जरूरत है।

देश की अन्य खबरें